November 26, 2022

अवधभूमि

हिंदी न्यूज़, हिंदी समाचार

शिवाजी औरंगजेब के सामने झुके और 5 बार माफी मांगी – सुधांशु त्रिवेदी भाजपा प्रवक्ता

मुंबई । Sudhanshu Trivedi: महाराष्ट्र में फिलहाल विवादित बयानों की बयार बह रही है। एक के बाद एक विवादित बयान दिए जा रहे हैं। जिसमें पहले राहुल गांधी ने वीर सावरकर को लेकर विवादित बयान दिया। उसके बाद महामहिम राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने शिवाजी महाराज को लेकर विवादित बयान दिया। अब बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी ने भी शिवाजी महाराज को लेकर निंदनीय बात कही है। उन्होंने कहा कि शिवाजी महाराज ने औरंगजेब से को पांच बार पत्र लिखकर माफी मांगी थी।

वीर सावरकर, छत्रपति शिवाजी महाराज, इतिहास और विवादित बयान की वजह से महाराष्ट्र (Maharashtra) का राजनीतिक और सामाजिक पारा इन दिनों चढ़ा हुआ है। राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) द्वारा शिवाजी महाराज को लेकर दिए गए विवादित बयान के बाद अब एक नया विवादित बयान सामने आया है। यह बयान बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी (Sudhanshu Trivedi) ने दिया है। उन्होंने अपने बयान में कहा कि छत्रपति शिवाजी महाराज (Chhatrapati Shivaji Maharaj) ने औरंगजेब (Aurangzeb) को पांच बार पत्र लिखकर माफी मांगी थी। त्रिवेदी के इस बयान के बाद महाराष्ट्र में बवाल मचा हुआ है। उन्होंने यह बयान एक निजी चैनल के डिबेट शो में बातचीत के दौरान दिया है। फिलहाल यह वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है और सुधांशु त्रिवेदी की जमकर आलोचना की जा रही है।

बीजेपी प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी के विवादित बयान के बाद संजय राउत ने उन पर जमकर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि त्रिवेदी ने शिवाजी महाराज का अपमान किया है। सत्ता के लालच में बीजेपी की गोद में बैठ स्वाभिमान की भाषा बोलने वाले एकनाथ शिंदे अब खामोश क्यों हैं? राउत ने सवाल किया है कि क्या शिवाजी का अपमान क्या आप सहन कर सकते हैं? वहीं उद्धव की शिवसेना के एक अन्य प्रवक्ता आनंद दुबे ने कहा कि जिस छत्रपति शिवाजी महाराज का नाम सुनकर जिस औरंगजेब को रात भर नींद नहीं आती थी। जिस शिवाजी की वीर सेना ने मुगलों की नाक में दम कर दिया था। उस वीर शिवाजी के बारे में बीजेपी के प्रवक्ता ऐसी बात कह रहे हैं। शायद सुधांशु त्रिवेदी को इतिहास की पूरी जानकारी नहीं है।

उन्होंने यह भी कहा कि अच्छा होता कि प्रधानमंत्री जी दूसरों को ज्ञान बांटने की बजाय अपने प्रिय प्रवक्ता को इतिहास के पुस्तक पढ़ने की सलाह देते। आनंद दुबे ने कहा कि छत्रपति शिवाजी महाराज के अपमान को महाराष्ट्र का एक भी बच्चा बर्दाश्त नहीं करेगा। शिवाजी महाराज सिर्फ महाराष्ट्र के ही नहीं बल्कि संपूर्ण देशवासियों के लिए श्रद्धा और प्रेरणा के स्रोत हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि अच्छा होता कि प्रधानमंत्री जी दूसरों को ज्ञान बांटने की बजाय अपने प्रिय प्रवक्ता को इतिहास के पुस्तक पढ़ने की सलाह देते। आनंद दुबे ने कहा कि छत्रपति शिवाजी महाराज के अपमान को महाराष्ट्र का एक भी बच्चा बर्दाश्त नहीं करेगा। शिवाजी महाराज सिर्फ महाराष्ट्र के ही नहीं बल्कि संपूर्ण देशवासियों के लिए श्रद्धा और प्रेरणा के स्रोत हैं।