October 5, 2022

अवधभूमि

हिंदी न्यूज़, हिंदी समाचार

प्रतापगढ़: पटेलों का रुझान जहां बिरादरी नहीं वहां वोट नहीं: सांसत में भाजपा के कैबिनेट मंत्री मोती सिंह और विधायक धीरज ओझा

प्रतापगढ़। अपना दल सोनेलाल और भाजपा के बीच गठबंधन भले हो गया है लेकिन यहां पर जातिवाद चरम पर पहुंच गया है।

पिछली बार पटेल मतदाताओं की बदौलत गठबंधन को 4 सीटों पर सफलता मिली थी लेकिन इस बार पटेल मतदाताओं के रुख के चलते भारतीय जनता पार्टी की मुश्किलें बढ़ गई हैं।

बात अगर सदर विधानसभा की करें तो यहां लगभग 50000 पटेल मतदाता है पिछली बार अनुप्रिया पटेल की अपील पर यहां पर अपना दल कोटे से लड़ने वाले राजकुमार पाल को सफलता मिली थी लेकिन इस बार अनुप्रिया पटेल की मां कृष्णा पटेल मैदान में है और अनुप्रिया पटेल ने अपनी मां के खिलाफ प्रत्याशी उतारने से मना कर दिया जिसके बाद भारतीय जनता पार्टी ने राजेंद्र मौर्य को मैदान में उतारा लेकिन सभी पटेल माना जा रहा है कि 90% तक कृष्णा पटेल के समर्थन में खड़ा हुआ है जिससे भारतीय जनता पार्टी प्रत्याशी की चुनौतियां और बढ़ गई है।

विश्वनाथ गंज में अपना दल सोनेलाल को सीट मिली है और यहां से जीत लाल पटेल चुनाव मैदान में है यहां पर पटेल जीत लाल पटेल के साथ हैं और सवर्ण मतदाताओं से भी योगी मोदी के नाम पर वोट देने की अपील कर रहे हैं। विश्वनाथगंज में लगभग 60,000 पटेल मतदाता है।

पट्टी विधानसभा

इस विधानसभा में मुख्य मुकाबला कैबिनेट मंत्री मोती सिंह और समाजवादी पार्टी गठबंधन के उम्मीदवार राम सिंह पटेल के बीच है। अभी पटेलों का रुख राम सिंह पटेल की ओर है। अनुप्रिया पटेल ने अब तक इस विधानसभा में अपना चुनावी कार्यक्रम घोषित नहीं किया है माना जा रहा है कि वह पटेलों के खिलाफ प्रचार करने से कतरा रही हैं। इस विधानसभा में कैबिनेट मंत्री मोती सिंह को अपना दल गठबंधन का कोई लाभ नहीं मिल रहा है।

रानीगंज विधानसभा

रानीगंज विधानसभा में डॉक्टर आरके वर्मा समाजवादी पार्टी गठबंधन के उम्मीदवार है और यहां भी पटेल बहुतायत में उन्हीं के साथ है जबकि पिछली बार पटेल मतदाताओं का बड़ा हिस्सा निवर्तमान विधायक धीरज ओझा के साथ गया था और उन्हें चुनाव जीतने में आसानी हुई थी लेकिन यहां इस बार पटेल समाजवादी पार्टी प्रत्याशी आर के वर्मा के साथ लामबंद दिखाई दे रहे हैं।

रामपुर खास

इस विधानसभा में पटेल कांग्रेस प्रत्याशी आराधना मिश्रा मोना और छोटे सरकार के बीच में बैठा हुआ दिखाई दे रहा है लेकिन माना जा रहा है कि बड़ा हिस्सा मोना के साथ है।

बाबागंज विधानसभा

बाबागंज विधानसभा में मुख्य मुकाबला जनसत्ता दल भारतीय जनता पार्टी और समाजवादी पार्टी के बीच है। यहां पटेलों का रुख स्पष्ट रूप से जनसत्ता दल की ओर दिखाई पड़ रहा है और भारतीय जनता पार्टी प्रत्याशी को निराशा मिल रही है।

कुंडा

कुंडा विधानसभा में मुख्य मुकाबला जनसत्ता दल सुप्रीमो राजा भैया सपा के गुलशन यादव और भाजपा की अनुराधा मिश्रा के बीच में है। अगर पटेल मतदाताओं की बात करें तो यहां पर पटेल मतदाता पूरी तरह राजा भैया के साथ नाम बंद है और उनका चुनाव संचालन दे कर रहे हैं।

प्रतापगढ़ में पटेलों का यह रुख क्या गुल खिलाएगा कह पाना मुश्किल है। लेकिन उनका रुझान स्पष्ट रूप से पक्ष या विपक्ष के पटेल कुर्मी प्रत्याशी के प्रति ही है।