October 3, 2022

अवधभूमि

हिंदी न्यूज़, हिंदी समाचार

अखिलेश ने दिया केशव को मुख्यमंत्री बनाने का ऑफर: डरी भाजपा

लखनऊ। सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव के एक गूगली ने लखनऊ से दिल्ली तक सियासी भूकंप ला दिया। दरअसल अखिलेश यादव ने उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को खुला ऑफर दिया कि यदि 100 विधायक का इंतजाम कर ले तो वह अपने समर्थन से उन्हें मुख्यमंत्री बना सकते हैं। अखिलेश यादव ने कहा कि उनकी स्वयं की मुख्यमंत्री बनने की इच्छा नहीं है बल्कि वह चाहते हैं कि उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक भागीदारी वाले पिछड़े समाज का व्यक्ति मुख्यमंत्री बने जिससे पिछड़े समाज को जो तरह तरह की परेशानियां हैं उनका निराकरण हो सके।

अखिलेश यादव के इस ऑफर से लखनऊ से दिल्ली तक सियासी भूकंप आया है। दरअसल अपने इस बयान से अखिलेश यादव ने केशव प्रसाद मौर्य के बहाने पिछड़े समाज के लोगों को खास तौर पर मौर्य शाक्य और कुशवाहा समाज को संदेश देने की कोशिश की है कि इस समाज के लोग भी मुख्यमंत्री बन सकते हैं। सपा उनके साथ खड़ी रहेगी।

केशव की मुश्किलें

अखिलेश यादव के इस प्रस्ताव पर केशव प्रसाद मौर्य मजबूत प्रतिक्रिया देने की स्थिति में नहीं है यदि वह इस प्रस्ताव को फिर ऐसे ठुकरा देते हैं तो ऐसे में उन पर स्टूल मंत्री होने का जो ठप्पा लगा है उसकी पुष्टि हो जाएगी और माना जाएगा कि वह भाजपा में इस पद के नेता नहीं है कि भारतीय जनता पार्टी योगी आदित्यनाथ के मुकाबले उनका साथ दे। यदि वह इस प्रस्ताव पर खामोश हो जाते हैं तो भाजपा हाईकमान तक यह संदेश जाएगा कि वह समाजवादी पार्टी के प्रति हमदर्दी रखते हैं। ऐसे में देखना दिलचस्प होगा कि केशव प्रसाद मौर्य अखिलेश यादव के इस बयान पर किस तरह की प्रतिक्रिया देते हैं।

अखिलेश ने भाजपा के पिछड़े वर्ग के नेताओं और कार्यकर्ताओं को दी संदेश देने की कोशिश

अखिलेश यादव के इस बयान से भारतीय जनता पार्टी के सामने बड़ी मुश्किलें खड़ी हो गई है अगर इस मुद्दे पर पार्टी नेता अखिलेश यादव पर हमलावर होते हैं तो पिछड़ी जाति के नेता भाजपा को लेकर सशंकित हो सकते हैं और यदि उस पर प्रतिक्रिया देने से बचते हैं तो पिछड़ी जाति के मुख्यमंत्री का सवाल बड़ा हो जाएगा और यह सवाल यदि समय रहते नहीं हल हुआ तो लोकसभा चुनाव में यक्ष प्रश्न बन जाएगा। फिलहाल अखिलेश यादव की इस गूगली को भाजपा कैसे खेलेगी यह समय बताएगा।