07 Jul 2022, 5:29 AM (GMT)

Global Stats

557,962,485 Total Cases
6,367,579 Deaths
531,757,961 Recovered

July 7, 2022

अवधभूमि

हिंदी न्यूज़, हिंदी समाचार

मुख्य विकास अधिकारी ने नहीं दिया वित्तीय अनुमोदन: 2000 से ज्यादा सहायता समूहों को नही मिला आरएएफ और सीआईएफ , हजारों महिलाओं का भविष्य अंधेरे में

प्रतापगढ़। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन का प्रतापगढ़ जनपद में बुरा हाल है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक मुख्य विकास अधिकारी कार्यालय में वित्तीय अनुमोदन के लिए जो भी फाइल जाती है उस पर कई परत धूल पड़ जाती है। ताजा मामला महिला स्वयं सहायता समूह का है। 1000 से अधिक समूहों का आर ए एफ के लिए तथा लगभग एक हजार स्वयं सहायता समूह का सीआईएफ के वित्तीय अनुमोदन के लिए मुख्य विकास अधिकारी कार्यालय को भेजा गया था जो कई महीनों तक लटकाए रखी गई और बाद में यह कह कर वापस कर दी गई कि इस पर खंड विकास अधिकारी का अनुमोदन होना चाहिए जबकि शासनादेश में ऐसा कोई जिक्र नहीं है। वित्तीय अनुमोदन के लिए एडीओ आईएसबी को अधिकृत किया गया था और उनकी मंजूरी लेकर मुख्य विकास अधिकारी के पास भेजा गया लेकिन मुख्य विकास अधिकारी कार्यालय में तैनात विवादित स्टेनो अश्वनी श्रीवास्तव ने अनावश्यक आपत्ति लगाकर स्वयं सहायता समूह के बजट में अनंगे बाजी लगा रखी है।

इतना ही नहीं मुख्य विकास अधिकारी कार्यालय में सिंचाई विभाग स्वास्थ्य विभाग जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला बाल विकास विभाग की कई पत्रावली वित्तीय अनुमोदन की बाट जो रही है। ऐसे में जिले का विकास कैसे हो सकता है यह एक बड़ा सवाल है।

बीजेपी का सबसे बड़ा वोट बैंक है महिला स्वयं सहायता समूह

2014 और 2019 में भाजपा की बंपर जीत में इन्हीं महिलाओं का बड़ा योगदान रहा है लेकिन आज सरकार से स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को दर-दर की ठोकरें खानी पड़ रही है और उनकी योजनाओं की उपेक्षा की जा रही है कहीं यह भाजपा को भारी न पड़ जाए।

You may have missed