November 26, 2022

अवधभूमि

हिंदी न्यूज़, हिंदी समाचार

शिव लीला के अनुपम चरित्र हैं हनुमान जी – बाल योगी महाराज


हनुमान नगर मिश्रदयालपुर हनुमान मंदिर पर भारी पुलिस बल के साथ सकुशल सम्पन्न हुआ भव्य भण्डारा।
विश्व कल्याण अमन-चैन मंगलमय के लिए 1101दीप जलाकर सामूहिक हवन पूजन सत्संग समागम भण्डारा सकुशल हुआ सम्पन्न- बालयोगी जी
कुण्डा-प्रतापगढ़। भगवान शंकर जी माता पार्वती के साथ कैलाश पर्वत पर विद्यमान थे।पर्वत पर बैठे शंकर जी ने राम राम कहते हुए अपनी समाधि भंग की।माता पार्वती कहने पर भगवान शंकर जी ने माता पार्वती को हनुमान जन्म की कथा सुनाना प्रारंभ कर दिया।यह प्रवचन हनुमान जन्मोंत्सव के अवसर पर प्राचीन सिद्ध पीठ संकट मोंचन धाम हनुमान नगर मिश्रदयालपुर हनुमान मंदिर पर दूर-नजदीक जिलों से आए श्रृद्धालु नर-नारी भक्तों के बीच तपस्वी महात्मा बालयोगी स्वामी संकट मोंचन महराज जी ने कहा।बालयोगी जी ने हनुमान जन्मोंत्सव की कथा सुनाते हुए कहा कि भगवान शंकर ने माता पार्वती से कहा कि मेरे मन में शुभ संकल्प उठ रहा है।मैं निरन्तर ध्यान किया करता हूँ।मै निरन्तर ध्यान किया करता हूँ।मै देखता हूँ कि प्रभू तमाम देवी देवताओं के साथ अवतार लेकर संसार में आ रहें है। मेरी भी इच्छा यही है कि मै भी अवतार लेकर वहीं चलूं और उनकी सेंवा करके जन्म को सफल बनाऊं।इस पर सती अचानक चौंक पङती है।उनके अन्दर दो तरह के भाव उत्पन्न होते है। पहला यह है कि मेरे पति राम की सेवा के लिए अवतार लेगें।दूसरा यह है कि मेरा शंकर से वियोग हो जाएगा। वियोग की बात सोचकर पार्वती रोने लगी। इस पर भगवान शंकर ने माता पार्वती को समझाते हुए कहा कि इसमें रोनें की कोई बात नहीं है। मैं एक रूप में अवर्तीण होकर प्रभू की सेवा करूँगा।तो दूसरे रूप में आपके साथ रहकर लीलाएं दिखाऊंगा शंकर ने वायु देवता के द्वारा अंजना के गर्भ से अवतार लेने का निर्णय लिया। उधर अंजनी और केशरी देवी दोनों ही मनुष्य रूप धारण करके विचरण कर रहे थे। अंजना के गर्भ से भगवान शंकर के अंशरूप में ग्यारहवें रूद्र में जन्म लिया।शंकर जी हनुमान जी के रूप में कार्तिक कृष्ण पक्ष चतुर्दशी को धरती पर आए।प्रभू की सेवा के साथ साथ आज कलयुग में भी सबका कल्याण कर रहें है। हनुमान जन्मोंत्सव के मौके पर बालयोगी महराज और विवेक जी महराज बजरंग सेना तहसील अध्यक्ष कुण्डा एवं राष्ट्रीय ब्राह्मण महासंघ जिला उपाध्यक्ष प्रतापगढ़ ने मिलकर 1101 दीपक जलाकर विश्व कल्याणार्थ सामूहिक हवन पूजन सत्संग समागम के साथ ही हनुमान जन्मोंत्सव पर भव्य रूप से भण्डारा कराके धूम धाम के साथ सकुशल सम्पन्न कराया। इस दौरान हनुमत दरबार पर दूर-नजदीक जिलों से श्रृद्धालुओं का तांता लगा रहा इस मौके पर बजरंग सेना अध्यक्ष विवेक जी महराज,बालयोगी महराज तपस्वनी माता जी,सीमा सिंह प्रधानाचार्य,आदर्श प्रताप सिंह, कमलेश पटेल,शंकर लाल वैश्य, ब्राहदीन मिश्र,ज्ञान चंद्र तिवारी,पारस सिंह,वीरेन्द्र शुक्ला,शिव बाबू मिश्र, रीशू शुक्ला,राम कैलाश यादव,विष्णु कान्त तिवारी,विकास सिंह,मस्ती यादव,लवलेश कुमार,शुभम् तिवारी, रवि सिंह,मुकेश प्रजापति,आदित्य प्रताप सिंह,नीरज यादव,सीता मिश्रा,
एसओ संतोष सिंह,उपनिरीक्षक घनश्याम यादव,उपनिरीक्षक ओंम प्रकाश सिंह,उपनिरीक्षक सुनील कुमार तिवारी आदि भारी संख्या में लोग मौजूद रहें।