October 5, 2022

अवधभूमि

हिंदी न्यूज़, हिंदी समाचार

अक्टूबर 2021:   कश्मीर  में 500 हिंदू मारे गए और 57000 लोग कश्मीर घाटी छोड़ने पर मजबूर हो गए

श्रीनगर। फिल्म कश्मीर फाइल की खूब चर्चा हो रही है। इस फिल्म में कश्मीरी पंडितों के विस्थापन और उन पर हुए अत्याचार को जीवंत किया गया है।

इस बीच बहुत से लोगों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा की इस बात के लिए तारीफ की है की धारा 370 और 35a हटाने से कश्मीर में हिंदुओं की स्थिति बेहतर हुई है लेकिन तथ्य कुछ और ही इशारा कर रहे हैं।

अक्टूबर 2021 में कश्मीर घाटी में ठीक उसी तरह के दंगे हुए जैसा जनवरी 90 में हुआ था। कश्मीर घाटी में लौटे पंडितों के साथ फिर से बर्बरता हुई। उनकी दुकान मकान लूटे गए और लगभग 500 लोगों की हत्या हो गई। कश्मीर घाटी में 16 दिन तक आतंकियों ने मारकाट मचाए रखी और यह हिंसा तब तक जारी रही जब तक कि बचे खुचे कश्मीरी पंडित और हिंदू घाटी छोड़कर चले नहीं गए।

कश्मीर में हिंसा और विस्थापन रोकने में नाकाम रही मोदी सरकार

अक्टूबर 2021 में लगभग 20 दिनों तक कश्मीर घाटी में हिंसा जारी रही मारकाट होती रही लेकिन मोदी सरकार हिंदुओं की रक्षा के लिए कोई कदम नहीं उठा पाई। स्कूल लेटर कश्मीरी पंडितों के  पुन्नन कश्मीर ने प्रदर्शन भी किया।

क्यों फैली हिंसा

दरअसल जम्मू कश्मीर प्रशासन ने कश्मीरी हिंदुओं और पंडितों को दी गई योजनाओं का विवरण वेबसाइट पर प्रकाशित किया। जम्मू कश्मीर प्रशासन ने लाभार्थी कश्मीरी पंडितों का नाम पता भी वेबसाइट पर प्रकाशित कर दिया जिसके बाद आतंकियों को उनको निशाना बनाने में मदद मिली। घाटी के किस हिस्से में हिंदू और कश्मीरी पंडित है यह जानकारी सरकार की वेबसाइट से मिल गया और आतंकियों ने उन्हें चुन चुन कर मारा या खदेड़ दिया।