01 Dec 2021, 6:15 AM (GMT)

Global Stats

263,353,005 Total Cases
5,237,877 Deaths
237,781,463 Recovered

December 1, 2021

अवधभूमि

हिंदी न्यूज़, हिंदी समाचार

तो क्या निजी हाथों में चला जाएगा स्टेट बैंक!

नई दिल्ली। रिजर्व बैंक की सिफारिश पर अगर सरकार गौर करेगी तो जल्द ही स्टेट बैंक ऑफ इंडिया बैंक ऑफ बड़ौदा और यूनियन बैंक के शेयर निजी हाथों में जाएंगे।

देश के सबसे बड़े बैंक के निजी करण की चर्चा जोर शोर से चल रही है। कई बड़े उद्योगपतियों ने इन बैंकों के शेयर में दिलचस्पी दिखाई है। अंबानी अदानी महिंद्रा और टाटा की भी दिलचस्पी स्टेट बैंक के शेयरों में देखी जा रही है।

बैंकिंग विशेषज्ञों का कहना है कि सरकार अपनी हिस्सेदारी बेचकर सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के मूल्यांकन को बढ़ाने के लिए प्रयास करने की तैयारी में है क्योंकि इन बैंकों के शेयरों का कारोबार उनके बुक वैल्यू से काफी नहीं हो रहा है। येस बैंक संकट के बाद निवेशक सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की ओर देख रहे हैं और अगर हम मुनाफे में परिचालन करने की क्षमता को प्रदर्शित करते हैं तो हम अपने दम पर पूंजी जुटाने में सक्षम होंगे। सूत्रों के अनुसार छह बैंक निकट भविष्य में कोई जोखिम वाला कर्ज नहीं देंगे और वित्त वर्ष 2021 के अंत तक अपनी गैर-निष्पादित आस्तियों को कम से कम एक-तिहाई तक घटाने पर ध्यान देंगे।

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में भारत सरकार का सर इस प्रकार है