November 26, 2022

अवधभूमि

हिंदी न्यूज़, हिंदी समाचार

प्रतापगढ़: लालगंज के इंदिरा चौराहे पर गिरा हाईटेंशन तार – बिजली का पोल , चार लोग की हालत गंभीर: नाराज विधायक आराधना मिश्रा ने ऊर्जा मंत्री को लिखा पत्र, देसी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग

लालगंज प्रतापगढ़। बाजार में पोल गिरने पर बिजली विभाग की लापरवाही को लेकर प्रमोद व मोना ने जतायी नाराजगी
विधायक मोना ने सीएम तथा ऊर्जा मंत्री को पत्र लिखकर फौरन जर्जर तारों के बदलवाने के साथ घायलों को मुआवजे की उठाई मांग
लालगंज, प्रतापगढ़। अपने निर्वाचन क्षेत्र रामपुर खास में लालंगज बाजार में जर्जर विद्युत पोल के गिरने से हादसे को लेकर क्षेत्रीय विधायक एवं कांग्रेस विधानमण्डल दल की नेता आराधना मिश्रा मोना ने विद्युत विभाग की लापरवाही पर कडी नाराजगी जतायी है। क्षेत्रीय विधायक आराधना मिश्रा मोना ने इस दुर्घटना को लेकर गुरूवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तथा ऊर्जा मंत्री एके शर्मा को पत्र लिखकर लालगंज बाजार में अपने पूर्व के अनुरोध का जिक्र करते हुए जर्जर लोहे के इन पोलों तथा तारों को फौरन बदलवाये जाने की मांग उठायी है। विधायक मोना ने सीएम तथा ऊर्जा मंत्री को लिखे पत्र में लालगंज में विद्युत पोल गिरने को लेकर सीधे तौर पर विभागीय अफसरो की लापरवाही पर दुख जताया है। उन्होनें हादसे मे सभी घायलों को सरकारी खर्च पर समुचित उपचार के साथ शासन की ओर से एक-एक लाख रूपये फौरन आर्थिक सहायता दिये जाने की भी मंाग की है। वहीं कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य प्रमोद तिवारी ने कहा है कि जिस तरह लालगंज तहसील तथा दीवानी मुख्यालय की बाजार में जर्जर खम्भांे विद्युत आपूर्ति के समय गिरे उससे यह साबित हो गया कि प्रदेश सरकार और बिजली विभाग लोगों की जानमाल की सुरक्षा को लेकर किस हद तक गैरजिम्मेदार है। उन्होनें सरकार व प्रशासन को आगाह किया है कि यदि इस हादसे से सबक लेते हुए बाजार से जर्जर तार व सड़े खम्भे एवं ग्रामीण तथा नगरीय क्षेत्र में लोगों के घरों के ऊपर लटकते तारों को नही बदला गया तो वह तथा विधायक मोना सदन में सरकार की जबाबदेही हर कीमत पर सुनिश्चित करायेंगे। प्रमोद तिवारी व विधायक मोना का संयुक्त बयान यहां मीडिया प्रभारी ज्ञानप्रकाश शुक्ल के हवाले से जारी किया गया है।

दीवानी तथा तहसील मुख्यालय के साथ लालगंज बाजार में दर्जन भर केन्द्रीय तथा राज्य सरकार के कार्यालय क्रियाशील हैं। नगरीय बाजार में दो डिग्री कालेज के साथ आधा दर्जन इण्टर कालेज के अलावा दर्जनों माण्टेसरी स्कूल भी संचालित हुआ करते हैं। वहीं यह बाजार लखनऊ-वाराणसी के लिए नेशनल हाइवे पर स्थापित है। ऐसे में लालगंज बाजार में रोज हजारों की संख्या में लोगों का आवागमन बना रहता है। गुरूवार को बिजली पोल गिरने की घटना भयावह भी हो सकती थी। सुबह दस बजे घटित घटना के समय ही स्कूली बच्चों का स्कूलों में जाने का समय हुआ करता है। यही समय अफसरो व कर्मचारियों के साथ तहसील व दीवानी अदालत मे बडी संख्या मे वकीलों तथा स्थानीय एवं दूरदराज क्षेत्र से आने वाले फरियादियों का भी सरकारी कार्यालयों मे पहुंचने का हुआ करता है। लोगों मे चर्चा थी कि काश खुदा मेहरबान न होता तो यह पोल यदि किसी भारी वाहन या यात्री सेवा या फिर स्कूली मासूम बच्चों के वाहन पर गिर गया होता तो गुरूवार का दिन लालगंज के लिए काले इतिहास का भी दुखदायी दिन बन जाता। बाजार में जमा भीड़ अफसरो को चौराहे से लेकर अस्पताल तक अभी भी गड़े लोहे के जर्जर पोलों के निचले हिस्सें को दिखलाकर बिजली विभाग की लापरवाही को कोश रही थी।

You may have missed