07 Jul 2022, 4:15 AM (GMT)

Global Stats

557,849,828 Total Cases
6,367,472 Deaths
531,686,707 Recovered

July 7, 2022

अवधभूमि

हिंदी न्यूज़, हिंदी समाचार

यूपी में शराब तस्करों को बड़ी राहत: नई आबकारी नीति में आबकारी आयुक्त की लिखित अनुमति के बिना घरेलू बार का निरीक्षण नहीं कर पाएंगे आबकारी निरीक्षक:

लखनऊ। नई आबकारी नीति किस को फायदा पहुंचाने के लिए बनाई गई है अब उसका एक-एक कर खुलासा होने लगा है। मिली जानकारी के मुताबिक आबकारी निरीक्षक अब आबकारी आयुक्त की लिखित अनुमति के बिना किसी बार का निरीक्षण नहीं कर पाएंगे। नई प्रक्रिया के अनुसार आबकारी निरीक्षक जिला आबकारी अधिकारी और जिला आबकारी अधिकारी उपायुक्त आबकारी और उपायुक्त आबकारी आबकारी आयुक्त से लिखित अनुमति लेंगे तभी प्रदेश में किसी भी घरेलू बार में चल रही अवैध गतिविधि का निरीक्षण कर पाएंगे। उदाहरण के लिए यदि किसी घरेलू बार में किसी अन्य प्रदेश की शराब अवैध रूप से बिक रही है या नकली शराब बिक रही है अथवा बार की आड़ में अन्य मादक द्रव्य की तस्करी हो रही है तो आबकारी निरीक्षक अब ऐसे बार में तब तक प्रवेश नहीं कर पाएंगे जब तक कि उनके पास आबकारी आयुक्त की लिखित अनुमति नहीं होगी।

आबकारी आयुक्त की सक्रियता से परेशान थे गैर कानूनी बार चलाने वाले

सेंथिल पांडियन सी जबसे आबकारी आयुक्त बने हैं उन्होंने बार के माध्यम से अवैध शराब तस्करी को लेकर शिकंजा कस दिया था जिससे शराब बार की आड़ में अवैध शराब की तस्करी करने वाले कारोबारियों को भारी मुसीबत का सामना करना पड़ रहा था।

शराब तस्करों को मिली राहत

एक जानकारी के मुताबिक नई आबकारी नीति शराब बार में अवैध गतिविधियां चलाने वाले लोगों को राहत पहुंचाने वाली है।

घरेलू बार का लाइसेंस लेने वाले लोग अब आसानी से शराब की तस्करी कर पाएंगे क्योंकि घरेलू शराब बार में आबकारी निरीक्षक तब तक प्रवेश नहीं कर पाएंगे जब तक की आबकारी आयुक्त उन्हें लिखित अनुमति नहीं देंगे। लिखित अनुमति की प्रक्रिया इतनी जटिल है कि आसानी से आबकारी निरीक्षक यह अनुमति प्राप्त नहीं कर पाएंगे और शराब बार चलाने वालों को अवैध गतिविधि से भी नहीं रोका जा सके।

शराब बार चलाने वाले कारोबारियों ने जताई खुशी

प्रशासन की नई शराब बार नीति से बार चलाने वाले व्यवसाई काफी खुश हैं। उन्होंने इसके लिए शासन का शुक्रिया अदा किया है।

You may have missed