October 3, 2022

अवधभूमि

हिंदी न्यूज़, हिंदी समाचार

रांची: भाजपा नेता के घर में आदिवासी लड़की पर हुए जुल्म की दास्तां सुनकर रोंगटे खड़े हो जाएंगे: आदिवासी और विकलांग लड़की का रॉड से दांत तोड़ा गया: गर्म तवे से पूरा शरीर दागा: जीभ से बाथरूम चाट कर साफ़ करने के लिए मजबूर किया : भूखा प्यासा बाथरूम में बंद किया:

रांची। बेहोश और और लगभग मरणासन्न अवस्था में एक विकलांग और आदिवासी लड़की को भाजपा नेता के घर से रांची पुलिस ने रेस्क्यू किया। आरोप है कि भाजपा नेता ने इस लड़की पर तरह-तरह के जुल्म किए। पूरे शरीर को तवे से दागा गया था। राड से उसके दांत तोड़ दिए गए थे। उसे खाना नहीं दिया जाता था। उसे बाथरूम में रहना पड़ता था। आज उस लड़की को सूचना मिलने पर रांची पुलिस ने भाजपा नेत्री के घर से निकाला जहां उसे एक बाथरूम में रखा गया था और बाहर से ताला मार कर बंद कर दिया गया था।

झारखंड से बेहद शर्मनाक खबर आ रही है. यहां रिटायर्ड IAS की पत्नी और बीजेपी नेत्री सीमा पात्रा (Seema Patra) ने घर में काम करने वाली नौकरानी सुनीता (Sunita) पर बेहिसाब जुल्म किए हैं. सुनीता के शरीर पर दर्जनों जख्म हैं. दावा किया जा रहा है कि उसे गरम तवे से कई जगह दागा गया है.

ऐसा लग रहा है कि सुनीता के साथ हैवानियत की सारी सीमाएं पार कर दी गई हैं. लोहे के रॉड से मारकर उसके आगे के 3-4 दांत तोड़ दिए गए हैं. सुनीता को कमरे में बंद करके रखा जाता था. कई बार उसे खाना तक नहीं दिया जाता था. यहां तक की वह ठीक से बोल भी नहीं पा रही है. फिलहाल उसका इलाज रांची के रिम्स में चल रहा है.

बताया जा रहा है कि सुनीता आदिवासी समाज से संबंध रखती है. वह गुमला की रहने वाली है. करीब 10 साल पहले वह रिटायर्ड आईएएस महेश्वर पात्रा और बीजेपी नेत्री सीमा पात्रा के घर नौकरानी के तौर पर काम करने के लिए लाई गई थी. बाद में उसे दिल्ली में रह रही सीमा की बेटी वत्सला पात्रा के यहां भेज दी गई थी. दिल्ली से वत्सला के तबादले के बाद सुनीता वापस रांची आ गई. उसने जब घर जाने की इजाजत मांगी तो उसे कमरे में बंद कर दिया गया. छोटी-छोटी बातों पर उसकी पिटाई की जाती थी.

दावा किया जा रहा है कि उसे दर्जनों बार गरम तवे से दागा गया. लगातार पिटाई से उसकी हालत नाजुक हो गई थी. सुनीता को जिस कमरे में बंद किया गया था वह उसी में बाथरूम भी करती थी. अगर उसका पेशाब कमरे से बाहर चला जाता था तो उसे मुंह से चाट कर साफ करना पड़ता था.

सुनीता पर हो रहे जुल्म की सूचना झारखंड सरकार के एक अधिकारी विवेक बास्की को मिली तो उन्होंने डीसी राहुल सिन्हा से शिकायत की. इसके बाद मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में सुनीता को मुक्त कराया गया. सीमा पात्रा के खिलाफ आईपीसी की कई धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है.

बताया जा रहा है कि सीमा के बेटे आयुष्मान ने मेड सुनीता के साथ हो रहे जुल्म का विरोध किया. सीमा इससे नाराज हो गई थी. उसने अपने बेटे को पागल करार दिया था और रांची स्थित मेंटल हॉस्पिटल रिनपास में भर्ती करा दिया था.