October 5, 2022

अवधभूमि

हिंदी न्यूज़, हिंदी समाचार

वृद्ध आश्रम में रह रही माताओं के बेटे और बहू बनकर पहुंचे रोशन लाल उमर वैश्य और उनकी पत्नी: निहाल हुई मातृ शक्तियां

प्रतापगढ। बेटे और बहू से तिरस्कृत होकर दर्जनों माताएं वृद्ध आश्रम में रहने को मजबूर है। और तिरस्कृत जीवन जीने पर दिवस है । किसी भी शुभ मांगलिक कार्यक्रम में भी परिवार के लोग मिलने नहीं आते ऐसे में आज मातृ दिवस के अवसर एलायंस कब इंटरनेशनल के गवर्नर रोशन लाल उमर वैश्य और उनकी पत्नी सुनीता द्वारा मदर्स डे पर रविवार को माताओं का सम्मान एवं मातृ – महिमा पर संगोष्ठी करके चिलबिला कार्यालय एवं वृद्धा आश्रम में फल वस्त्र और अन्य उपहार लेकर पहुंचे।
क्लब के अंतरराष्ट्रीय डायरेक्टर रोशनलाल उमरवैश्य के द्वारा विगत 23 वर्षों की भांति इस मदर्स डे पर भी माताओं को साड़ी सेट, फल, मिठाई तथा खाद्य सामग्री व अन्य उपहार देकर श्रद्धा पूर्वक सम्मानित किया गया। माताओं की ईश्वरीय गुणों का बखान भी हुआ। मातृ- महिमा पर संगोष्ठी की अध्यक्षता करने वाले अंबिका प्रसाद (प्रबंधक) ने रोशनलाल जी के इस संदेश पर कार्य की सराहना करते हुए कहा कि माता की पूजा ही ईश्वर पूजा है। माता-पिता तथा अन्य बुजुर्गों का सम्मान ही सच्चा धर्म है इनकी सेवा से स्वर्ग के द्वार खुलते हैं।
आयोजक समाजसेवी रोशनलाल उमरवैश्य ने कहा कि माताएं त्याग की प्रतिमूर्ति होती हैं वह भगवान का प्रतिरूप और पीढ़ियों की सृजन करता है। बुजुर्गों की सेवा में ही सुख है उनका आशीष ही सबसे बड़ा सौभाग्य है। वृद्धा आश्रम में अपने परिवार से अलग रह रही माताओं का सम्मान कर उन सब को भी बेटों की कमी को पूरा करने की कोशिश की गई। उपहार पाकर माताओं ने आशीर्वाद दिया। इस अवसर पर विचार देने वालों में संतोष कुमार, देवानंद, छेदीलाल, रफेल सिंह, धर्मेंद्र कुमार, विनय सिंह, रेखा उमरवैश्य, अनूप सिंह, चमन वैष्णव, डॉ दयाराम मौर्य, राजीव कुमार आर्य, विवेक कुमार, आदर्श कुमार, राकेश कुमार आदि ने माताओं का सम्मान कर आशीर्वाद प्राप्त किया।