08 Aug 2022, 11:09 AM (GMT)

Global Stats

589,836,405 Total Cases
6,437,767 Deaths
561,465,719 Recovered

August 9, 2022

अवधभूमि

हिंदी न्यूज़, हिंदी समाचार

तो क्या रबर स्टैंप बन कर रह गए बृजेश पाठक: अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने उड़ाई स्थानांतरण नीति की धज्जियां, किए मनमाने स्थानांतरण और प्रमोशन: नाराज उपमुख्यमंत्री ने अपर मुख्य सचिव को किया तलब

लखनऊ। कहने को तो बृजेश पाठक को चिकित्सा शिक्षा स्वास्थ्य परिवार कल्याण जैसा भारी-भरकम विभाग का मंत्री बनाया गया है और उपमुख्यमंत्री पद का प्रोटोकाल दिया गया है लेकिन लगता है कि उनको अपने ही अपर मुख्य सचिव ने उन्हें आईना दिखाया है तथा बिना उनसे पूछे ही थोक के भाव ट्रांसफर पोस्टिंग कर दिए। यह सब कब किया गया जब वहां भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में भाग लेने के लिए हैदराबाद गए थे। हैदराबाद से लौटते ही उन्हें जानकारी मिली कि विभाग में सभी प्रकार के ट्रांसफर पोस्टिंग हो गए वह भी बिना उन्हें विश्वास में लिए। इसके बाद उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक का पारा सातवें आसमान पर चला गया और उन्होंने पत्र लिखकर अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद को तलब किया है।

उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक (Brajesh Pathak) ने स्वास्थ्य विभाग में मौजूदा सत्र में हुए तबादलों पर सवाल उठाते हुए कहा कि वर्तमान सत्र में जो भी स्थानांतरण किए गए हैं, उनमें स्थानांतरण नीति का पूर्णत: पालन नहीं किया गया है. उन्होंने अपर मुख्‍य सचिव (एसीएस) चिकित्‍सा एवं स्‍वास्‍थ्‍य अमित मोहन को कारण स्पष्ट करते हुए संपूर्ण विवरण उपलब्ध कराने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री के बेहद करीबी और विश्वास पात्र हैं अमित मोहन प्रसाद

अमित मोहन प्रसाद 5 वर्षों से पद पर लगातार बने हुए हैं हालाकी उनका भी स्थानांतरण होना चाहिए था लेकिन माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री के विश्वासपात्र अधिकारियों में शामिल होने के नाते उन्हें कोई भी पद से नहीं डिगा पाया।

बरेली दौरे पर भी डीएम और एसपी ने उप मुख्यमंत्री को नहीं दी थी तवज्जो

इसके पहले बरेली दौरे पर गए थे तो वहां के जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक ने प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया था जिसको लेकर वह खासे नाराज हुए थे।