08 Aug 2022, 11:19 AM (GMT)

Global Stats

589,843,114 Total Cases
6,437,775 Deaths
561,468,042 Recovered

August 9, 2022

अवधभूमि

हिंदी न्यूज़, हिंदी समाचार

तो क्या आबकारी महकमे के माल खाने से गायब हो गई करोड़ों रुपए की शराब: पकड़ी गई शराब नष्ट करने के बजाए शराब माफियाओं को बेची गई: खेल में अपर आयुक्त आबकारी दिव्य प्रकाश गिरी के शामिल होने का संदेह:

लखनऊ। आबकारी महकमे में बड़े-बड़े खेल हो रहे हैं। छापेमारी के दौरान विगत वर्षों से पकड़ी गई अवैध शराब माल खाने से गायब हो गई है कहा जा रहा है कि बड़ा खेल हुआ है यह शराब नकली क्यूआर के जरिए बिक गई या पड़ोसी राज्य बिहार में खपवा दी गई।

सूत्रों ने दावा किया है कि यदि पकड़ी गई शराब और माल खाने में वर्तमान में मौजूद शराब का मिलान किया जाएगा तो कई करोड़ रुपए का घोटाला सामने आ सकता है।

सूत्रों ने दावा किया है कि लखनऊ के एक थाने में लगभग 4 करोड रुपए की शराब बरामद हुई थी जिसे माल खाने में रखवाया दिया गया था। यह शराब नष्ट करने के बजाए मोटी रकम लेकर शराब माफियाओं को दे दी गई जबकि रिकॉर्ड में शराब माल खाने में मौजूद है और वास्तविकता यह है कि माल खाने में बरामद शराब का 5% भी मौजूद नहीं है।

शराब नष्ट करने का कोई सबूत नहीं

इसी तरह विभाग द्वारा अवैध रूप से पकड़ी गई शराब को नष्ट करने का जो दावा किया गया है वह भी सवालों के घेरे में है। शराब को नष्ट करने का कोई भी सबूत विभाग के पास मौजूद नहीं है।

कुल मिलाकर आबकारी महकमे में शराब माफियाओं का वर्चस्व कायम हुआ है।

आबकारी आयुक्त सख्त जल्द गिर सकती है गाज

आबकारी महकमे में सेन्थियल पांडियन सी जबसे बतौर आबकारी आयुक्त पदभार संभाले हैं। माफिया और उनसे जुड़े विभागीय अधिकारी हलकान हैं। सुनने में आया है कि आबकारी आयुक्त जल्द ही बरामद शराब के आंकड़े और माल खाने में मौजूद शराब की मिलान कर दोषियों पर आरोप तय कर सकते हैं। आबकारी आयुक्त के इस संभावित कदम की आहट मात्र से माल खाने की जिम्मेदारी संभालने वाले जिला आबकारी अधिकारी और निरीक्षकों की नींद हराम हो गई है।