October 4, 2022

अवधभूमि

हिंदी न्यूज़, हिंदी समाचार

अवधभूमि न्यूज़ की खबर का असर: शासन में मलाईदार पटेल संभाल रहे बाबुओं पर गिरेगी गाज:

लखनऊ। ब्लॉक से लेकर प्रदेश शासन के सचिवालय तक सालों से जमे बाबुओं की करतूत को लेकर अवध भूमि न्यूज़ ने प्रमुखता से खबर प्रकाशित की थी। प्रकाशित खबरों को शासन ने भी गंभीरता से लिया और अपनी नई स्थानांतरण नीति में उन बाबुओं के जो कि खनन आबकारी लोक निर्माण विभाग ऊर्जा और स्वास्थ्य आदि महकमे में सालों से जमे हैं और माफिया हो गए हैं उनका स्थानांतरण सुनिश्चित करने के लिए शासन ने नई स्थानांतरण नीति में सख्त प्रावधान किया है।

शासन ने नई स्थानांतरण नीति में प्रावधान किया है कि एक पटल पर 3 वर्ष बिताने वाले सभी लिपिकों का स्थानांतरण हर हाल में सुनिश्चित किया जाए और इस संबंध में विभागाध्यक्ष को हलफनामा भी देना होगा।

शराब माफिया बने अमित अग्रवाल जैसे लोग अब नहीं बच पाएंगे

आबकारी मुख्यालय में कंप्यूटर लिपिक के पद पर कार्यरत अमित अग्रवाल जैसे बाबू अब अपने ऊंचे रसूख का इस्तेमाल कर नहीं बच पाएंगे। अमित अग्रवाल जैसे लोग वेब ग्रुप जैसी शराब कंपनियों के एजेंट के तौर पर लगभग दो दशक के आबकारी मुख्यालय पर जमे हुए थे और तमाम ट्रांसफर पॉलिसी के बावजूद इन पर कोई कार्यवाही नहीं हुई। अपर आबकारी आयुक्त प्रशासन दिव्य प्रकाश गिरी जैसे लोगों के कार्यालय पर अमित अग्रवाल का सीधा नियंत्रण था। दिव्य प्रकाश गिरी माफिया बाबू के सामने असहाय और लाचार हो गए थे।

वेब ग्रुप के चहेते को दिव्य प्रकाश गिरी ने शीरा इंडेंट का पटल किया आवंटित

आबकारी आयुक्त मुख्यालय में अत्यंत महत्वपूर्ण शीरा इंडेंट आवंटन पटल पर अपर आबकारी आयुक्त प्रशासन दिव्य प्रकाश गिरी की मिलीभगत से वेब ग्रुप का वर्चस्व हो गया है।

आबकारी आयुक्त किसी को भी बख्शने के मूड में नहीं

इस बीच सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक आबकारी आयुक्त सेंथिल पांडियन सी विभाग में नियम विरुद्ध पोस्टिंग को लेकर काफी सख्त बताए जा रहे हैं। सुनने में आया है कि वह ऐसे बाबुओं की लिस्ट मंगा रहे हैं जो स्थानांतरण नीति का उल्लंघन करते हुए वर्षों से एक पटल पर जमे हुए हैं या जिनकी पोस्टिंग नियम विरुद्ध की गई है। उनके इस रुख से विभाग में हड़कंप मचा हुआ है। कई बाबू उन के प्रकोप से बचने के लिए अपनी ऊंची पहुंच का इस्तेमाल करना चाहते हैं लेकिन उन्हें कोई कामयाबी मिलती नहीं दिखाई दे रही है। माना जा रहा है कि 1 सप्ताह के भीतर आबकारी महकमे में बड़े पैमाने पर स्थानांतरण होने वाले हैं। स्थानांतरण के जद में कई चर्चित बाबू भी आने वाले हैं