September 30, 2022

अवधभूमि

हिंदी न्यूज़, हिंदी समाचार

फिर बदनाम हुई ललितपुर पुलिस: जबरन अपराध कुबूलवाने के लिए महिला को दरोगा और मुंशी ने निर्वस्त्र कर बेल्ट से पीटा, थर्ड डिग्री से महिला की हालत गंभीर

ललितपुर। ललितपुर पुलिस उत्तर प्रदेश सरकार के माथे पर कलंक बनती जा रही है। थाने में रेप पीड़िता के साथ इंस्पेक्टर द्वारा बलात्कार किए जाने की बदनामी से अभी ललितपुर पुलिस उबरी भी नहीं थी कि इसी बीच एक महिला से चोरी की वारदात को जबरन स्वीकार करने पर मजबूर करने के लिए महिला को निर्वस्त्र कर रात भर बेल्ट से पिटाई की जाती रही। भोर में महिला की हालत गंभीर होने के बाद महकमे में हड़कंप मच गया।

जानकारी के अनुसार, यह घटना महरौनी थाने के अंतर्गत आने वाले डाकघर इलाके की है। जिसमें मोहल्ला खरवांचपुरा में रहने वाली युवती पूजा (30) थाने में मुंशी पद पर तैनात पुलिसकर्मी अंशु पटेल के घर में खाना बनाने और झाड़ू-पोछा का काम करती है। उसने डाकखाने के पास स्थित मुंशी के मकान में बीते 14 अप्रैल से ही काम शुरू किया था। दो मई के दिन खाना बनाने पहुंची पूजा को अंशु की पत्नी ने उसे रोक लिया और फिर उसे (अंशु) को बुला लिया।

अंशु अपने साथ महिला दारोगा पारुल चंदेल को भी लेकर पहुंचा और घर में हुई चोरी के संबंध में पूछताछ शुरू की। पूजा ने खुद को निर्दोष बताया तो दोनों पुलिसकर्मियों ने रात आठ बजे से उसे कमरे में बंद कर निर्वस्त्र कर बेल्टों से पीटना शुरू कर दिया। इस दौरान उस पर लगातार पानी की बौछार की जा रही थी, वह मिन्नतें करती रही लेकिन पुलिसकर्मी नहीं मानें। अंशु ने चोरी कबूल करने की धमकी देते हुए गालियां भी दीं।

युवती पूजा ने बताया कि मारपीट के दौरान अंशु ने कहा कि एक तांत्रिक ने बताया है कि चोरी उसी ने की है। इस घटना के बाद थाने में भी युवती और उसके बीमार पति के साथ मारपीट की गई। पति को कोतवाली में बंद कर दिया गया। जब पुलिसकर्मियों ने महिला की हालत गंभीर देखी तो मामले को रफा-दफा करने के लिए पारिवारिक विवाद में दोनों का धारा 151 में चालान कर दिया।

You may have missed