21 Jan 2022, 1:25 AM (GMT)

Global Stats

343,664,191 Total Cases
5,595,381 Deaths
275,167,957 Recovered

January 21, 2022

अवधभूमि

हिंदी न्यूज़, हिंदी समाचार

नीति आयोग की रिपोर्ट में उत्तर प्रदेश सबसे गरीब राज्य में शामिल: बिहार और झारखंड के बाद उत्तर प्रदेश ही देश का सबसे गरीब राज्य

नई दिल्ली। नीति आयोग के मल्टी डायमेंशनल पॉवर्टी इंडैक्स (MPI) के अनुसार बिहार, झारखंड और उत्तर प्रदेश देश के सबसे गरीब राज्यों के रूप में सामने आए हैं. सूचकांक के मुताबिक, बिहार की 51.91 फीसदी जनसंख्या गरीब है. वहीं, झारखंड में 42.16 फीसदी और उत्तर प्रदेश में 37.79 फीसदी आबादी गरीब है.।

रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत के एमपीआई में तीन समान आयामों- स्वास्थ्य, शिक्षा और जीवन स्तर का मूल्यांकन किया जाता है. इसका आकलन पोषण, बाल और किशोर मृत्यु दर, प्रसवपूर्व देखभाल, स्कूली शिक्षा के वर्ष, स्कूल में उपस्थिति, खाना पकाने के ईंधन, स्वच्छता, पीने के पानी, बिजली, आवास, संपत्ति और बैंक खाते जैसे 12 संकेतकों के जरिए किया जाता है. साल 2015 में 193 देशों द्वारा अपनाए गए सतत विकास लक्ष्य (एसडीजी) रूपरेखा ने दुनिया भर में विकास की प्रगति को मापने के लिए विकास नीतियों और सरकारी प्राथमिकताओं को फिर से तय किया गया है।

कैसे तैयार की गई रिपोर्ट?
रिपोर्ट के मुताबिक, भारत का राष्ट्रीय बहुआयामी गरीबी सूचकांक ऑक्सफोर्ड पॉवर्टी एंड ह्यूमन डेवलपमेंट इनीशिएटिव (OPHI) और संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) द्वारा विकसित विश्व स्तर पर स्वीकृत और मजबूत पद्धति का इस्तेमाल कर तैयार किया जाता है. बहुआयामी गरीबी सूचकांक में मुख्य रूप से परिवार की आर्थिक हालात और अभाव की स्थिति को आंका जाता है.

You may have missed