07 Jul 2022, 4:44 AM (GMT)

Global Stats

557,962,465 Total Cases
6,367,578 Deaths
531,757,958 Recovered

July 7, 2022

अवधभूमि

हिंदी न्यूज़, हिंदी समाचार

अमित शाह के बेटे पर प्रवर्तन निदेशालय की नजरे इनायत क्यों : नई दिल्ली जय शाह का जादुई कारोबार: 50 हजार से खड़ी की कंपनी और कुछ ही महीनों में कमाया ₹80 करोड़:

नई दिल्ली। नेशनल हेराल्ड मामले में जब प्रवर्तन निदेशालय राहुल गांधी और सोनिया गांधी को पूछताछ के लिए बुलाया है ऐसे में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के बेटे जय शाह की कंपनी और उसकी रहस्यमई कमाई भी सुर्खियों में है। लोग सवाल पूछ रहे हैं कि एक ही जैसे मामले में प्रवर्तन निदेशालय का दोहरा चरित्र सामने क्यों आ रहा है।

जानिए क्या है मामला

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय अमितभाई शाह की स्वामित्व वाली कंपनी का सालाना टर्नओवर नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री और पिता अमित शाह के पार्टी अध्यक्ष बनने के बाद 16,000 गुना बढ़ गया. ये बात रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज (आरओसी) में दाखिल किए गए दस्तावेजों से सामने आई है.

कंपनी की बैलेंस शीटों और आरओसी से हासिल की गई वार्षिक रिपोर्टों से ये बात उजागर होती है कि 2013 और 2014 के मार्च में समाप्त होने वाले वित्तीय वर्षों में शाह की टेंपल एंटरप्राइज़ प्राइवेट लिमिटेड कंपनी कोई ख़ास उल्लेखनीय कारोबार नहीं कर रही थी और इन वर्षों में कंपनी को क्रमशः 6,230 और 1,724 रुपये का घाटा हुआ. 2014-15 में कंपनी ने महज 50,000 के राजस्व पर 18,728 रुपये का लाभ दिखाया. 2015-16 में कंपनी का टर्नओवर आसमान में छलांग लगाते हुए बढ़कर 80.5 करोड़ रुपये को छू गया.
टेंपल एंटरप्राइज़ के राजस्व में यह हैरान करने वाली बढ़ोत्तरी एक ऐसे समय में हुई जब कंपनी को राज्यसभा सांसद और रिलायंस इंडस्ट्रीज के शीर्ष एक्जीक्यूटिव परिमल नाथवानी के समधी राजेश खंडवाला के स्वामित्व वाली एक वित्तीय सेवा कंपनी से 15.78 करोड़ रुपये का असुरक्षित कर्ज मिला था.
हालांकि, एक साल बाद अक्टूबर, 2016 में जय शाह की कंपनी ने अपनी व्यापारिक गतिविधियों को अचानक पूरी तरह से बंद कर दिया. निदेशकों की रिपोर्ट में यह कहा गया कि पिछले वर्ष हुए 1.4 करोड़ रुपये के घाटे और इससे पहले के सालों में होने वाले नुकसानों के कारण कंपनी का नेटवर्थ पूरी तरह से समाप्त हो गया है.

You may have missed