November 26, 2022

अवधभूमि

हिंदी न्यूज़, हिंदी समाचार

भ्रष्ट डीसी एनआरएलएम के खिलाफ बगावत: बीएमएम ने एकजुट होकर मुख्य विकास अधिकारी को लिखी चिट्ठी, डीसी के के नेतृत्व में काम करने में जताई असमर्थता

प्रतापगढ़। उपायुक्त राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन नागेंद्र नारायण मिश्रा का भ्रष्टाचार विभाग के लिए आफत बन गया है। विभाग के तमाम ब्लॉक मिशन प्रबंधकों ने मुख्य विकास अधिकारी को पत्र लिखकर उपायुक्त के भ्रष्टाचार अनियमितता और अराजकता की जानकारी दी है। ब्लॉक मिशन प्रबंधकों ने नागेंद्र नारायण मिश्रा पर आरोप लगाया है कि वह विभिन्न योजनाओं में अनुचित धन उगाही का दबाव बनाए रहते हैं और जो भी ब्लॉक मिशन प्रबंधक उनकी बात नहीं मानता उसको तरह-तरह से प्रताड़ित करते हैं। ब्लॉक मिशन प्रबंधकों के इस पत्र का मुख्य विकास अधिकारी ने संज्ञान लिया है। बताया जा रहा है कि ब्लॉक मिशन प्रबंधकों के आरोपों की गोपनीय जांच भी कराई जा रही है। सूत्रों का कहना है कि उपायुक्त राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के कामकाज से मुख्य विकास अधिकारी संतुष्ट नहीं है । राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के स्थानीय उपायुक्त पर बीसी सखियों के मानदेय में भी वसूली का आरोप है इसके पहले ड्राई राशन बांटने वाले स्वयं सहायता समूहों की ओर से भी इस तरह की शिकायत सार्वजनिक हुई थी।

कार्यालय के अनुसार से अपने आवास पर भोजन और कपड़े धुलाई का भी काम लेते हैं

नागेंद्र नारायण मिश्रा पर इस बात का भी आरोप लगा है कि राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन कार्यालय के लिए तैनात अनुचर से अवैध रूप से अपना घरेलू काम करवाते हैं। सूत्रों के मुताबिक आवास पर खाना बनवाते हैं कपड़े धुलवाते है। बीएमएम का 2 वर्ष का यात्रा भत्ता और अन्य मद का भुगतान रोका

अभी जानकारी मिली है कि ब्लॉक मिशन प्रबंधकों का 2 वर्ष का यात्रा भत्ता और अन्य खर्च के मद का 20 लाख रुपया स्थानीय उपायुक्त ग्रामीण आजीविका मिशन द्वारा रोका गया है। ब्लॉक मिशन प्रबंधकों ने नाम ना छापने की शर्त पर बताया कि भुगतान के एवज में कुछ अनुचित लाभ चाहते हैं और मिशन प्रबंधकों द्वारा उनकी मांग न माने जाने के कारण उन्होंने इस मद में भुगतान को रोक रखा है। उपायुक्त राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन नागेंद्र नारायण मिश्र भी इस मामले में संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए। भुगतान क्यों रोका गया है इसका कोई स्पष्ट कारण भी नहीं बता पाए।

You may have missed