November 26, 2022

अवधभूमि

हिंदी न्यूज़, हिंदी समाचार

एक ऐसा कोरोनावायरस जिस के संक्रमण से 80 फ़ीसदी लोगों की हो जाती है मौत

वाशिंगटन । अमेरिका के शोधकर्ताओं के एक प्रयोग ने दुनिया की चिंता बढ़ा दी है। शोधकर्ताओं ने प्रयोगशाला में कोविड-19 वायरस का एक खतरनाक वेरियंट विकसित किया है। ये इतना खतरनाक है कि इससे संक्रमितों में मृत्यु दर 80 फीसदी है। कई लोगों को डर है कि इस तरह का प्रयोग खतरनाक तरीके से महामारी की फिर शुरुआत कर सकता है। ये म्यूटेंट वेरिएंट ओमिक्रॉन और मूल कोविड-19 का एक हाइब्रिड है। बोस्टन विश्वविद्याल में इससे संक्रमित 80 प्रतिशत चूहों की मौत हो गई है।

जब इन्हीं चूहों में से कुछ को ओमिक्रॉन के संपर्क में लाया गया, तो वे सभी बच गए और उन्होंने केवल हल्के लक्षणों का अनुभव किया। वैज्ञानिकों ने इंसानी कोशिका को हाइब्रिड वेरिएंट से संक्रमित किया और पाया कि ये ओमिक्रॉन की तुलना में पांच गुना अधिक संक्रामक था। माना जा रहा है कि मानव निर्मित वायरस अभी तक का सबसे खतरनाक वेरिएंट हो सकता है। इस तरह के अध्ययन से चिंता जताई जा रही है कि कोरोना के मामले खतरनाक तरीके से बढ़ सकते हैं।

80 फीसदी चूहों की मौत का बना कारण : 
शोधकर्ताओं ने नए वायरस वेरिएंट को बनाने के बाद इस बात पर गौर किया कि चूहे हाइब्रिड स्ट्रेन पर कैसा प्रदर्शन करते हैं। इस रिसर्च को लेकर शोधकर्ताओं ने लिखा, ‘चूहों में ओमिक्रॉन हल्के और गैर घातक संक्रमण का कारण बनता है, हाइब्रिड वायरस 80 फीसदी मृत्यु दर के साथ गंभीर बीमारी पैदा करता है।’ उन्होंने कहा कि यह इस बात का संकेत है कि स्पाइक प्रोटीन संक्रामता के लिए जिम्मेदार है, वहीं इसकी संरचना के अन्य हिस्सों में परिवर्तन से ये घातक हो जाता है। नए शोध में बोस्टन और फ्लोरिडा के शोधकर्ताओं की टीम ने ओमिक्रॉन के स्पाइक प्रोटीन को निकाला और उसे मूल कोविड 19 के स्पाइक प्रोटीन के साथ जोड़ दिया। 

You may have missed